Chaitra Navratri 2020: सप्तमी, अष्टमी और नवमी का क्या है महत्व, जानिए क्या नहीं खाना चाहिए







[ads id="ads1"]







चैत्र नवरात्रि में व्रत रखा जाता हैं या तो कई घरों में सप्तमी, अष्टमी या नवमी को व्रत का समापन करते हैं। समापन के दौरान कई तरह के व्यंजन बनाते हैं। व्यंजन बनाते वक्त निम्नलिखित भोजन का ग्रहण करने से बचना चाहिए । वैसे यह नियम सभी व्रतियों पर लागू होते हैं।

तिथियों का ज्ञान हमें ज्योतिष शास्त्र और पुराणों में मिलता है। किस तिथि में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं इस संबंध में आयुर्वेद में भी उल्लेख मिलता है।तो आइये जानते हैं अगर अपने नवरात्री में व्रत रखा हैं तो क्या खाने से परहेज करना चाहिए :-

सप्तमी :-


सप्तमी के स्वामी सूर्य और इसका विशेष नाम मित्रपदा है। शुक्रवार को पड़ने वाली सप्तमी मृत्युदा और बुधवार की सिद्धिदा होती है। आषाढ़ कृष्ण सप्तमी शून्य होती है। इस दिन किए गए कार्य अशुभ फल देते हैं। इसकी दिशा वायव्य है। सूर्य, रथ, भानु, शीतला, अचला आदि कई सप्तमियों को व्रत रखने का प्रचलन है।

क्या नहीं खाएं :-


 सप्तमी के दिन ताड़ का फल खाना निषेध है। इसको इस दिन खाने से रोग होता है।






[ads id="ads2"]




अष्टमी :-

इस आठम या अठमी भी कहते हैं। कलावती नाम की यह तिथि जया संज्ञक है। मंगलवार की अष्टमी सिद्धिदा और बुधवार की मृत्युदा होती है। इसकी दिशा ईशान है।

क्या नहीं खाएं :-

अष्टमी के दिन नारियल खाना निषेध है, क्योंकि इसके खाने से बुद्धि का नाश होता है। इसके आवला तिल का तेल, लाल रंग का साग तथा कांसे के पात्र में भोजन करना निषेध है।

नवमी :-

यह चैत्रमान में शून्य संज्ञक होती है और इसकी दिशा पूर्व है। शनिवार को सिद्धदा और गुरुवार को मृत्युदा। अर्थात शनिवार को किए गए कार्य में सफलता मिलती है और गुरुवार को किए गए कार्य में सफलता की कोई गारंटी नहीं।

क्या नहीं खाएं :-

 नवमी के दिन लौकी खाना निषेध है, क्योंकि इस दिन लौकी का सेवन गौ-मांस के समान माना गया है।



यह भी पढ़ें :-


Chaitra Navratri 2020: 25 मार्च से चैत्र नवरात्र शुरू, जानिए शुभ मुहूर्त, घट स्‍थापना, पूजा विधि और महत्‍व

 Chaitra Navratri Vrat Katha 2020: चैत्र नवरात्रि व्रत वाले दिन इस कथा को जरूर पढ़ें या सुनें ,मां की बनती है कृपा

 Chaitra Navratri 2020 : देवी दुर्गा की पूजा में वास्तु के इन नियमों का जरूर रखें ध्यान

 क्या आप जानते हैं औषधियों में विराजमान हैं नवदुर्गा?

 दशहरा से जुड़ा एक ऐसा रहस्य जो कोई नहीं जानता | A secret Related to Dussehra that no one knows

 Navratri 2020 : श्रीदेवी जी की आरती ...जगजननी जय ! जय ! माँ ! जगजननी जय ! जय !

 अम्बे माँ की आरती :- जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा  गौरी | Jai Ambe Gauri ,Maiya Jai Shyama Gauri 

 दुर्गा चालीसा – नमो नमो दुर्गे सुख करनी | Durga Chalisa-Namo Namo Durge Sukh Karani

0/Write a Review/Reviews

Previous Post Next Post