कइसे भोजपुरी सिखल जाव : भोजपुरी मुहावरा और अर्थ | Bhojpuri idiom and meaning : छठवाँ भाग


[ads id="ads1"]



एह कोर्स में राउर हार्दिक स्वागत बा ।😊

बिहारलोकगीत डॉट कॉम के लगातार सार्थक कोशिश रही कि आपन गौरवशाली अतीत के फेर से परिभाषित कऽ के भोजपुरी के छवि के आपन देस के साथे-साथ दुनिया के बाकी हिस्सा में भी पुनर्जीवित कईल जाव। ई काम में रउरा सब के सहयोग के साथ जरुरी बा, एह से रउरा सभे से निहोरा बा की “बिहारलोकगीत डॉट कॉम” से जुड़ी आ आपन भासा भोजपुरी के आगे बढ़ावे में बिहारलोकगीत के मदद करीं।

बिहारलोकगीत डॉट कॉम के ई सतत प्रयास बा की आपन भोजपुरी भाषा आगे बढ़े आ भोजपुरी के ऑनलाइन के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगन तक पहुचावल जाव, एह कड़ी के आगे बढ़ावत बिहारलोकगीत लेके आइल बा भोजपुरी मुहावरा, जहा प रउवा भोजपुरी मुहावरा के बारे में पढ़ेब और ओकरा बारे में जानेब ओकर अर्थ के साथ ।


आखिर ह का मुहावरा ?, भोजपुरी मुहावरा :-


मुहावरा अपना भोजपुरी भाषा के एगो अभिन्न अंग ह, एकरा बिना भोजपुरी भाषा भा साहित्य पूरा नइखे होसकत। भोजपुरी भासा के बोल चाल में मुहावरा के प्रयोग खूब होला।

परिभाषा: अइसन वाक्यांश जवन आपन साधारण अर्थ छोड़ के कवनो विशेष मतलब आ अर्थ की ओर ले जाव भा व्यक्त करो ओकरा के मुहावरा कहल जाला।

हमरा कम उमेद बा की केहू भोजपुरी अपना गावं-घरे में बूढ़ पुरनिया से मुहबरा ना सुनले होइ, लेकिन अब भोजपुरी मुहावरा के उपयोग कम होखत जा ता।

हमार शुभकामना बा कि राउर जतरा शुभ होखे ।



[ads id="ads2"]



भोजपुरी मुहावरा और अर्थ | Idioms in Bhojpuri with meaning :-


भोजपुरी मुहावरा

अर्थ
आँखि आइलि 
:-
आँखों को उठना।
आँखि के पुतरी भइल
      :-         
अत्यंत प्यारा होना।
आँखि खुलल 
      :-
आँख खुलना, बुद्धिमान होना।
आँखि देखावल 
      :-
आँख दिखाना, धमकी देना
आँखि नीचे कइल
      :-
लज्जा करना।
आँखि फेरल 
      :-
मित्रता तोड़ना, प्रतिकूल होना।
आँखि में राखल
      :-
यत्न से रखना।
आँखि से भादो खेपल 
      :-
कमजोरी दिखलाना।
आँट लिहल
      :-
 भेद लेना।
आँवक में आइल 
      :-
कब्जे में आना।
आग पाछ जानल
      :-
भूत भविष्य जानना।
आगि बरिसल 
      :-
बहुत गर्मी पड़ना, लू चलना।
आगी में मूतल
      :- 
आग में पेशाब करना, अत्याचार करना।
आगो मागो कइल 
      :-
मूर्खता करना।
आन्ही उठावल
     :-
हलचल करना।
आन्ही भइल
     :-
तेज होना।
आपन खून भइल 
     :-
अपने वंश का होना, सगोत्री होना। 
आपन घर भइल
     :-    
आराम की जगह होना; संकोच का स्थान न होना।
आफति ढाहल
     :-    
उपद्रव मचाना।
आम दरफ भइल 
     :-    
आमद -रफ़्त। घनिष्टता होना।
आमे मछरी भेंट भइल
     :-
असंभव कार्य का संभव हो जाना।
आल्हा गावल 
     :-
अपना वृत्तांत सुनाना।
आस टूटल 
     :-
आशा भंग होना।
ऑन का बल पर फउकल 
     :-
बैठने में स्थिर भाव आना।
आसन डिगल
     :-
चित्त चलायमान हो जाना।


रउवा खातिर:

कइसे भोजपुरी सिखल जाव : चउथा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : पांचवा दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : छठवां दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव :सातवां दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव :आठवां दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव :नउवां दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव :दसवां दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव :ग्यारहवां दिन
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : बारहवां दिन 
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : भोजपुरी मुहावरा और अर्थ : पहिला भाग
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : भोजपुरी मुहावरा और अर्थ : दुसरका भाग
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : भोजपुरी मुहावरा और अर्थ : तिसरका भाग
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : भोजपुरी मुहावरा और अर्थ : चउथा भाग 
कइसे भोजपुरी सिखल जाव : भोजपुरी मुहावरा और अर्थ : पांचवा भाग 


इ पेज बनावला के मुख्य उदेश्य बा की भोजपुरी सीखे वाला के सहायता कइल आ भोजपुरी भाषा के आगे बढ़ावल। येही मकसद से बिहारलोकगीत डॉट कॉम पर भोजपुरी भाषा सीखे! (Learn Bhojpuri) पेज बनावल गईल बा, जे भोजपुरी सीखे के चाहत बा भा जाने के इच्छा रखत बा त वो लोग ख़ातिर भी इ पेज बहुत उपयोगी बा।

बिहारलोकगीत डॉट कॉम  के कोशिश बा की लोग ज्यादा से ज्यादा भोजपुरी भाषा सीखे आ भोजपुरी भाषा बोले।
एह पर भोजपुरी के आसान वाक्य आ हर रोज उपयोग में आवे वाला वाक्यन के संग्रह कइल गइल बा, जेसे रउवा सब के भोजपुरी भाषा सीखे आ बोले में आसानी होखे।

अगर रउवो लगे भोजपुरी वाक्यन के संग्रह बा त बिहारलोकगीत डॉट कॉम के भेज दीं। राउर वाक्यन के बिहारलोकगीत डॉट कॉम के एह पेज प जोड़ दीहल जाई।

ध्यान दीं: भोजपुरी सीखे के खातिर बिहारलोकगीत.कॉम के फेसबुक पेज के लाइक करीं ।

0/Write a Review/Reviews

Previous Post Next Post